emblem-logo
  • minister-logo
    Smt. Maneka Sanjay Gandhi
    Minister, WCD
  • bbbp-logo
  • minister-logo
    Dr. Virendra Kumar
    MoS, WCD

A PHP Error was encountered

Severity: Notice

Message: Undefined index: site_lang

Filename: site/aboutshebox.php

Line Number: 1

Backtrace:

File: /opt/lampstack-5.6.30-2/apache2/htdocs/application/views/site/aboutshebox.php
Line: 1
Function: _error_handler

File: /opt/lampstack-5.6.30-2/apache2/htdocs/application/controllers/User.php
Line: 1128
Function: view

File: /opt/lampstack-5.6.30-2/apache2/htdocs/index.php
Line: 316
Function: require_once

शी-बॉक्‍स के बारे में
शी-बॉक्‍स के बारे में

भारत सरकार ने महिलाओं के लिए लैंगिक उत्पीाड़न से मुक्त सुरक्षित और संरक्षित कार्य-स्थलल बनाए जाने के उद्देश्यल से ''महिलाओं का कार्य-स्थओल पर लैंगिक उत्पीकड़न से संरक्षण (निवारण, प्रतिषेध और प्रतितोष) अधिनियम (लैंगिक उत्पी'ड़न अधिनियम), 2013 बनाया है । यह अधिनियम संगठित और असंगठित दोनों प्रकार के क्षेत्रों में कार्यरत महिलाओं पर लागू है और इसमें महिलाओं की शिकायतों के निपटान के लिए निराकरण तंत्र की स्थाोपना का प्रावधान है ।

यह अधिनियम अपनी व्यानपकता के कारण अद्वितीय है । इसके अंतर्गत चाहे संगठित क्षेत्र में अथवा असंगठित क्षेत्र में, सार्वजनिक अथवा निजी क्षेत्र में, पदानुक्रम को ध्या न में रखे बिना किसी भी पद पर कार्यरत सभी महिलाएं शामिल हैं । घरेलू नौकरानियां भी इस अधिनियम के अंतर्गत शामिल हैं ।

अधिनियम में 'कार्यस्थएल पर लैंगिक उत्पीरड़न' को व्याापक तरीके से परिभाषित किया गया है । किसी महिला को प्रत्याक्ष अथवा अप्रत्य क्ष रूप से नौकरी का वायदा करना अथवा नौकरी से हटाए जाने की धमकी देना अथवा महिला के लिए कार्य करने का प्रतिकूल वातावरण बनाना या उसके साथ अपमानजनक व्य वहार करना, जिसमें उसके स्वाकस्य्रन या सुरक्षा पर दुष्प्र्भाव पड़े, लैंगिक उत्पीकड़न है । ब्यौसरे के लिए कृपया पोर्टल पर अपलोड किए गए 'बार-बार पूछे जाने वाले प्रश्न्' पढें ।

यह लैंगिक उत्पी ड़न इलैक्ट्रॉंनिक बॉक्सक (शी-बॉक्सक) प्रत्येेक महिला को, चाहे वह किसी भी पद पर कार्यरत हो और चाहे वह संगठित अथवा असंगठित, निजी अथवा सार्वजनिक क्षेत्र में कार्य करती हो, लैंगिक उत्पी‍ड़न से संबंधित शिकायत दर्ज करने की सुविधा प्रदान करने के लिए एकल खिड़की पहुंच प्रदान करने का भारत सरकार का एक प्रयास है । कार्यस्थैल पर लैंगिक उत्पीसड़न का सामना करने वाली कोई भी महिला इस पोर्टल के माध्यतम से अपनी शिकायत दर्ज कर सकती है । एक बार 'शी-बॉक्सा' में शिकायत दर्ज करने के पश्चाकत यह शिकायत सीधे उस संबंधित प्राधिकारी को भेज दी जाएगी, जिसके अधिकार क्षेत्र में उस मामले में कार्रवाई करना आता है।

कार्य-स्थ ल पर लैंगिक उत्पी्ड़न से संबंधित शिकायतें दर्ज करने के लिए

शी-बॉक्स के माध्यैम से शिकायतें दर्ज करने के लिए एक वैध ई-मेल आईडी अपेक्षित है । शी-बॉक्स के माध्य म से शिकायत दर्ज कराना बहुत सरल है ।शिकायत दर्ज करने के लिए, स्क्रीन पर दिखाए गए 'अपनी शिकायत दर्ज करें' टैब पर क्लिकक करें ।. अगले स्क्रीकन में उस कार्यालय की किस्मर के बारे में जानकारी मांगी जाएगी, जहां लैंगिक उत्पीकड़न का तथाकथित कार्य हुआ है/हुए हैं, (सरकारी/निजी); ; सभी आवश्युक ब्यौीरा भरने के पश्चात,शिकायत दर्ज करने के लिए कृपया प्रस्तु त करें टैब पर क्लिाक करें ।. शिकायत दर्ज हो जाने के पश्चाात,आपके ई-मेल आईडी (शिकायत प्रपत्र में उल्लिरखित) पर एक पुष्टिकरण संदेश भेजा जाता है, जिसमें एक लिंक दिया गया होगा, जिसके माध्य म से शी-बॉक्सर में खोले गए खाते के लिए आप अपना ई-मेल आईडी यूज़र आईडी के रूप में इस्तेामाल कर सकते हैं और समय-समय पर शिकायत की स्थिॉति जानने के लिए पासवर्ड बना सकते हैं । पंजीकरण प्रक्रिया के बारे में जानने के लिए कृपया वेबसाइड पर अपलोड की गई प्रयोक्ताक नियमावली को पढ़ें ।

महिलाओं का कार्य-स्थईल पर लैंगिक उत्पीीड़न से संरक्षण (निवारण, प्रतिषेध और प्रतितोष) अधिनियम, 2013 के संसाधनों का भंडार

शी-बॉक्स के संसाधन खंड में महिलाओं के कार्य-स्थवल पर लैंगिक उत्पीेड़न के मुद्दे पर विस्तृगत जानकारी दी गई है । इस खंड में महिलाओं का कार्य-स्थरल पर लैंगिक उत्पीएड़न से संरक्षण (निवारण, प्रतिषेध और प्रतितोष) अधिनियम, 2013 तथा इसके अंतर्गत बनाए गए नियम हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में दिए गए हैं । भंडार में एक हस्तंपुस्तियका भी दी गई है, जिसमें लैंगिक उत्पीतड़न अधिनियम के उपबंधों के संबंध में सरकारी कर्मचारियों की जानकारी बढ़ाने के लिए एक प्रशिक्षण मॉड्यूल के साथ-साथ इस्ते्माल के लिए एक सरल और व्या वहारिक तरीके से लैंगिक उत्पीजड़न अधिनियम के बारे में जानकारी दी गई है । इस मॉड्यूल को प्राइवेट संगठनों द्वारा अपने वर्तमान सेवा नियमों के अनुसार परिवर्तित किया जा सकता है । इसके अलावा, सरकारी कर्मचारियों के लिए भंडार में कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग द्वारा जारी सभी परामर्शियां/कार्यालय ज्ञापन/दिशानिर्देश दिए गए हैं । ये सभी दस्तानवेज़ ऑनलाइन देखे जा सकते हैं अथवा नि:शुल्का डाउनलोड किए जा सकते हैं । भंडार में इस संबंध में वीडियो भी रखे गए हैं, जिनका इस्तेनमाल लैंगिक उत्पीिड़न अधिनियम के बारे में जानकारी बढ़ाने के लिए किया जा सकता है ।

सूचीबद्ध संस्थासन/संसाधन व्यक्तिं

महिला एवं बाल विकास मंत्रालय सभी कार्यस्थ लों पर महिलाओं की सुरक्षा और संरक्षा सुनिश्चिहत करने के लिए ऐसे संस्था्नों/संगठनों की सूची तैयार कर रहा है, जो लैंगिक उत्पीऔड़न अधिनियम के उपबंधों के बारे में जागरुकता बढ़ाने के कार्यकलाप आयोजित करने के इच्छु/क हैं । पहले चरण में, 29 संस्थाीनों/संगठनों को चुना गया और उन्हें 16 फरवरी, 2017 की अधिसूचना के अनुसार सूचीबद्ध किया गया (इस सूची को संसाधन खंड में देखा जा सकता है) । हाल ही में, देश के विभिन्नक भागों में कार्यरत संगठनों/संस्थायनों की पहुंच को व्याखपक बनाने के लिए महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने हिंदी और अंग्रेजी के दैनिक समाचार पत्रों में 31.08.2017 को प्रकाशित एक विज्ञापन के माध्य म से सार्वजनिक और निजी क्षेत्र के ऐसे संगठनों से निर्धारित प्रोफार्मा में नए प्रस्तासव आमंत्रित किए हैं, जो लैंगिक उत्पीयड़न अधिनियम के संबंध में प्रशिक्षण कार्यक्रम/कार्यशालाएं आयोजित कर रहे हैं । आवेदन करने वाले अनेक संगठनों/संस्थातनों में से 112 संगठनों/संस्थाशनों को चुना गया है (नई और पुरानी अधिसूचना दोनों के आधार पर) । इनकी सूची शी-बॉक्सक में अपलोड कर दी गई है । इन सूचीबद्ध संस्थाननों को उनके द्वारा लैंगिक उत्पींड़न अधिनियम के अंतर्गत आयोजित सभी प्रशिक्षण कार्यक्रमों/कार्यशालाओं के बारे में शी-बॉक्सस के माध्यदम से तिमाही रिपोर्टें प्रस्तुत करनी हैं ।

इसके अतिरिक्तज, महिला एवं बाल विकास मंत्रालय लैंगिक उत्पी ड़न अधिनियम के प्रयोजनार्थ संसाधन व्य्क्ति यों के रूप में अपनी सेवाएं प्रदान करने के इच्छुमक लोगों के नाम आमंत्रित करने के लिए विज्ञापन देने पर विचार कर रहा है । संसाधन व्यकक्ति के रूप में सूचीबद्ध किए जाने के लिए प्रपत्र शीघ्र ही शी-बॉक्से के 'हमारे साथ शामिल हों' टैब के अंतर्गत अपलोड किया जाएगा । सूचीबद्ध किए जाने के इच्छुनक व्यपक्तिश इसके माध्य म से आवेदन कर सकते हैं ।